July 5, 2022

अल्मोड़ा: खुशनुमा परवीन की स्वरचित कविता, बढ़ती मंहगाई ने तोड़ी सबकी कमर है

 1,965 total views,  3 views today

महंगाई– महंगाई ने तोड़ी सबकी कमर है, जनता बेचारी फिर परेशान हैं, महंगाई ने छुआ आसमान को है, फिर गरीब जनता के बुरे हाल है,गैस सिलेंडर की किमत हजार (१०००) के पार है, महंगाई ने किया जनता का बुरा हाल है, सब्जी-फल,तेल की कीमतों में आया बढ़ावा है, महंगाई ने फिर गरीब जनता का बजट हिलाया है, महंगाई को रोकना है तो हमें अपनी आवाज उठानी होगी, महंगाई रोकनी है तो सरकार के कान खोलने होंगे, सरकार को महंगाई पर नियंत्रण करना होगा, मासुम जनता बेचारी महंगाई से परेशान हैं भारत के लोगों का‌‌ महंगाई से बुरा हाल है, और हमारी सरकार कान में तेल डालकर बैठी आराम से है, भारत को विकासशील देश बनाना है तो सबसे पहले महंगाई पर रोक लगानी होगी, जनता को अपनी आवाज उठानी होगी, और सरकार को जनता की आवाज सुननी होगी। -खुशनुमा परवीन