February 7, 2023

Khabribox

Aawaj Aap Ki

अल्मोड़ा: जिले के गांवों की सूची तैयार करने में जुटा पुलिस प्रशासन और राजस्व विभाग

 1,223 total views,  2 views today

जिले के पर्यटन स्थल और अपराध की दृष्टि से संवेदनशील गांवों की कानून व्यवस्था अब जल्द पुलिस के जिम्में होगी। इसके लिए तैयारी शुरू कर दी गई है। पहले चरण में करीब 200 राजस्व गांवों को पुलिस में शामिल करने की कवायद की जा रही है। बाकायदा इसके लिए इन दिनों पुलिस प्रशासन और राजस्व विभाग की ओर से सर्वे किया जा रहा है। इसके बाद प्रस्ताव तैयार किया जाएगा।

प्रशासन ने कानून व्यवस्था दुरुस्त करने के लिए कवायद शुरू कर दी

   दरअसल, जिले में भी अपराध का ग्राफ लगातार बढ़ रहा है। खासकर दूर दराज क्षेत्र के गांवों में अपराध के ग्राफ में बढ़ोतरी हुई है। करीब डेढ़ साल के भीतर ही जिले में चार बड़ी वारदातों को अंजाम दिया जा चुका है। इसके बाद अब प्रशासन ने कानून व्यवस्था दुरुस्त करने के लिए कवायद शुरू कर दी है। पहले चरण में जिले के प्रसिद्ध पर्यटक स्थल समेत अपराध की दृष्टि से अति संवेदनशील करीब 100 गांवों की सुरक्षा व्यवस्था पुलिस के जिम्में सौंपने की तैयारी शुरू कर दी है। इससे इन क्षेत्रों में बढ़ते अपराध पर लगाम लगायी जा सके। इन दिनों पुलिस-प्रशासन और राजस्व विभाग अल्मोड़ा जिले के गांवों की सूची तैयार करने में जुटा है। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि पहले चरण में थाने-चौकियों के पास वाले क्षेत्र और पयर्टन स्थल के आसपास के गांव शामिल होंगे।

बीते नौ महीने में राजस्व से पुलिस को 51 मामले हुए हस्तांतरित

राजस्व पुलिस के पास रेगुलर पुलिस जैसा न तो अपराध की जांच का अनुभव होता है और न तकनीक। ऐसे में अब सामान्य अपराध से लेकर आधुनिक साइबर क्राइम और नशा तस्करी भी होने लगी है। इससे राजस्व पुलिस के सामने कई बार अपराधों के मामले सुलझाने में भारी परेशानी झेलनी पड़ती है। वहीं बड़ा अपराध होने पर भी राजस्व पुलिस कुछ खास नहीं कर पाती है। आलम यह है कि एक सदी पुरानी राजस्व पुलिस से बीते नौ माह में ही जिले भर में करीब 51 मामले रेग्लुर पुलिस को हस्तांतरित हुए हैं।

जिले में करीब डेढ़ साल के भीतर हुई चार बड़ी वारदातें

जिले में करीब डेढ़ साल के भीतर चार बड़ी वारदातें हुई है, जिसमें दो पुलिस क्षेत्र और दो मामले राजस्व क्षेत्र में  हुई हैं।

ये बड़े अपराध हुए

– दो सितंबर 2022 को सर्वण लड़की से शादी करने पर दलित नेता जगदीश की भिकियासैंण में निर्मम हत्या कर हुई।
– 2021  अप्रैल माह में दन्या के आरासलपड़ गांव में युवती से मिलने पहुंचे युवक की ग्रामीणों की पिटाई के बाद इलाज के दौरान हुई मौत।
– 2021 अगस्त दूसरे सप्ताह में एक तरफा प्यार में सिरफिरे ने सोमेश्वर में प्रेमिका की हत्या कर खुद भी जहर गटककर जान दे दी।
– 2021  अक्तूबर माह में धौलादेवी ब्लॉक के पनुवानौला आरतोला के पास कार में जिंदा जलने से मौके पर एक की मौत जबकि दूसरे ने उपचार के दौरान दम तोड़ दिया था ।

राजस्व क्षेत्र के करीब 200 गांव पुलिस के अधीन होंगे

वहीं प्रदीप कुमार राय, एसएसपी अल्मोड़ा ने कहा कि पुलिस और राजस्व विभाग की टीम गांवों की सूची तैयार रही है। इसके बाद राजस्व क्षेत्र के करीब 200 गांव पुलिस के अधीन होंगे। पहले चरण में थाने-चौकियों के पास वाले क्षेत्र और पयर्टन स्थल के आसपास के गांव शामिल करने की योजना है।