May 28, 2022

अल्मोड़ा: 25 सितंबर को पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर जिले के हर बूथ पर आयोजित होंगे कार्यक्रम- विनीत बिष्ट

 4,573 total views,  5 views today

भारतीय जनता पार्टी प्रदेश नेतृत्व के आह्वान पर 17 सितंबर से 7 अक्टूबर तक सेवा समर्पण अभियान चलाने का निर्णय लिया है। जिसके तहत अपने आसपास साफ सफाई,नदी नालों की सफाई, गोष्टीया, आदि कार्यक्रमों का होना निश्चित हुआ है। इसी के तहत अलग-अलग कार्यक्रमों के लिए संगठन द्वारा अलग-अलग कार्यकर्ताओं को विभिन्न जिम्मेदारियां दी गई हैं।

पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती के अवसर पर होंगे कार्यक्रम-

कार्यक्रम के मीडिया संयोजक विनीत बिष्ट ने कहा की दिनांक 25 सितंबर को पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती के अवसर पर जिले के हर बूथ पर कार्यक्रम किए जाएंगे। इन कार्यक्रमों के लिए तुषारकांत साह,अमित साह, किरन पंत ,सुरेंद्र मेहता को जिम्मेदारी दी गयी है, बूथ स्तर पर होने वाला यह कार्यक्रम हर कार्यकर्ता तक पंडित दीनदयाल उपाध्याय के विचारों को पहुँचाने में मील का पत्थर साबित होगा।

पंडित दीनदयाल उपाध्याय भारत ही नहीं पूरे विश्व में जाने जाते है एकात्म मानववाद के लिए-

पंडित दीनदयाल उपाध्याय भारत ही नहीं पूरे विश्व में एकात्म मानववाद के लिए जाने जाते हैं। उन्होंने बताया जिस प्रकार समाज के अंतिम छोर में बैठे हर व्यक्ति का विकास किया जाना आवश्यक है और कैसे उस व्यक्ति का विकास किया जा सकता है। पंडित दीनदयाल उपाध्याय भारतीय जनसंघ के संस्थापक सदस्य रहने के साथ साथ भारतीय राजनीति के वटवृक्ष थे और आज भारतीय जनता पार्टी की सरकार चाहे वह राज्य की हो या केंद्र की अंतिम छोर में बैठे व्यक्ति तक कैसे विकास पहुंचे कैसे उस व्यक्ति तक सरकारी योजनाओं का लाभ पहुंचे इस विषय को लेकर गंभीर है, और लगातार कार्य कर रही है। ऐसे ही विचारों को अपने बूथ स्तर तक के कार्यकर्ताओं तक पहुंचाने के लिए 25 सितंबर को जिले के हर बूथ में कार्यक्रम निश्चित किए गए हैं। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी एक ऐसी पार्टी है जो समाज में केवल चुनावों के समय नहीं दिखती यह पार्टी समाज के हर रंग हर रूप में समाहित है, और इसी कारण भारतीय जनता पार्टी विश्व की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी है। भारतीय जनता पार्टी के हर कार्यकर्ता से यह उम्मीद की जाती है कि वह पंडित दीनदयाल उपाध्याय के जन्म जयंती कार्यक्रम को हर्षोल्लास के साथ मनाएं उनके विचारों को आत्मसात करते हुए आगे बढे।