January 27, 2022

भारतीय विज्ञान संस्थान बैंगलुरु को दुनिया के शीर्ष अनुसंधान संस्थानों में पहला स्थान मिला

 1,659 total views,  2 views today

क्यूएस विश्वविद्यालय रैंकिंग में तीन भारतीय विश्वविद्यालयों ने शीर्ष दो सौ स्थानों में जगह बनाई  है विज्ञान संस्‍थान, बैंगलुरु को दुनिया के शीर्ष अनुसंधान संस्‍थानों में पहला स्थान दिया गया है।
क्‍यूएस विश्‍वविद्यालय रैंकिंग 2022 में तीन भारतीय विश्‍वविद्यालयों ने शीर्ष दो सौ स्‍थान में जगह बनाई है। भारतीय विज्ञान संस्‍थान, बैंगलुरु को दुनिया के शीर्ष अनुसंधान संस्‍थानों में पहला स्थान दिया गया है। उच्‍च शिक्षा की विश्‍लेषण करने वाली वैश्विक संस्‍था क्‍वैकक्‍वेरेली साइमंड्स ने दुनियाभर के अंतर्राष्‍ट्रीय विश्‍वविद्यालयों की रैंकिंग का 18वां संस्‍करण जारी किया है।

आई.आई.टी. बॉम्‍बे 177वें पर

विश्‍वविद्यालय रैंकिंग में आई.आई.टी. बॉम्‍बे 177वें स्‍थान पर है जबकि आई.आई.टी. दिल्‍ली को 185वां स्‍थान दिया गया है। वहीं भारतीय विज्ञान संस्‍थान, बैंगलुरु 186वें स्‍थान पर है।

प्रधानमंत्री ने विश्व के शीर्ष 200 संस्थानों में जगह बनाने पर दी बधाई

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आईआईटी बम्बई, आईआईटी दिल्ली और आईआईएस बेंगलुरू को क्‍यूएस विश्‍वविद्यालय रैंकिंग-2022 में विश्व के शीर्ष 200 संस्थानों में जगह बनाने पर बधाई दी है। एक ट्वीट में श्री मोदी ने कहा कि देश के और भी विश्वविद्यालय और संस्थानों के वैश्विक स्तर पर स्थान बनाने के प्रयास चल रहे हैं।

भारत अब विश्‍व गुरु के रूप में उभर रहा है।

शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने ट्वीट कर इन संस्‍थानों को बधाई दी है। श्री निशंक ने कहा कि भारत ने शिक्षा और अनुसंधान के क्षेत्र में काफी प्रगति की है और अब विश्‍व गुरु के रूप में उभर रहा है। उन्‍होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी भारतीय शिक्षा क्षेत्र से जुड़े छात्रों, शिक्षकों और सभी हितधारकों के कल्‍याण के लिए हमेशा से सोचते रहे हैं। श्री निशंक ने कहा कि राष्‍ट्रीय शिक्षा नीति-2020 और उत्‍कृष्‍ट संस्‍थानों जैसी पहल से भारतीय महाविद्यालयों और संस्‍थानों की वैश्विक रैंकिंग में सुधार देखने को मिला है।