April 15, 2024

Khabribox

Aawaj Aap Ki

उत्तराखंड: पीएम मोदी ने 35 पीएसए ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र राष्ट्र को किये समर्पित

पीएम मोदी ने आज ”7 अक्टूबर 2021” को पीएम केयर्स के तहत स्थापित 35 पीएसए ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र राष्ट्र को समर्पित किए।  उत्तराखंड में एम्स ऋषिकेश में आयोजित कार्यक्रम में 35 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में 35 पीएसए संयंत्र शुरू होने के साथ ही अब देश के सभी जिलों में पीएसए ऑक्सीजन संयंत्रों की सुविधा उपलब्ध हो गई हैं। कोविड-19 महामारी शुरू होने के बाद से भारत की चिकित्सा ऑक्सीजन उत्पादन क्षमता को बढ़ाने के लिए केंद्र सरकार द्वारा उठाए गए सकारात्मक उपायों का प्रमाण है।   

पीएम केयर्स के तहत 35 PSA ऑक्सीजन प्लांट राष्ट्र को समर्पित

कोविड की दूसरी लहर के दौरान देश को ऑक्सीजन की बड़ी मात्रा में जरूरत पड़ी थी। इस तरह की तमाम चुनौतियों का सामना करने के लिए केंद्र सरकार ने हर जिले में प्लांट स्थापित कर दिए हैं। पीएम मोदी ने उत्तराखंड के ऋषिकेश स्थित एम्स में आयोजित एक कार्यक्रम में 35 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में पीएम केयर्स के तहत स्थापित 35  Pressure Swing Adsorption यानि PSA ऑक्सीजन प्लांट राष्ट्र को समर्पित किए। केंद्र सरकार के इस कदम से अब देश के सभी जिलों में पीएसए ऑक्सीजन प्लांट चालू हो गए हैं।

पीएम मोदी ने इस मौके पर एक जनसभा को भी संबोधित किया

इसके अलावा पीएम मोदी ने इस मौके पर एक जनसभा को भी संबोधित किया। उन्होंने कहा “कोरोना से लड़ाई के लिए इतने कम समय में भारत ने जो सुविधाएं तैयार कीं, वो हमारे देश के सामर्थ्य को दिखाता है। सिर्फ 1 टेस्टिंग लैब से करीब 3 हजार टेस्टिंग लैब्स का नेटवर्क, मास्क और किट्स के आयातक से निर्यातक बनने का सफर। 
आगे  पीएम ने कहा, देश के दूर-दराज वाले इलाकों में भी नए वेंटिलेटर्स की सुविधाएं, मेड इन इंडिया कोरोना वैक्सीन का तेजी से और बड़ी मात्रा में निर्माण, दुनिया का सबसे बड़ा और सबसे तेज टीकाकरण अभियान भारत ने जो कर दिखाया है, वो हमारी संकल्प शक्ति, हमारे सेवाभाव, हमारी एकजुटता का प्रतीक है। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि सामान्य दिनों में भारत में एक दिन में 900 मीट्रिक टन, लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन का प्रोडक्शन होता था। डिमांड बढ़ते ही भारत ने मेडिकल ऑक्सीजन का प्रोडक्शन 10 गुना से भी ज्यादा बढ़ाया। ये दुनिया के किसी भी देश के लिए अकल्पनीय लक्ष्य था, लेकिन भारत ने इसे हासिल करके दिखाया।
उन्होंने यह भी कहा कि ये हर भारतवासी के लिए गर्व की बात है कि कोरोना वैक्सीन की 93 करोड़ डोज लगाई जा चुकी है। बहुत जल्द हम 100 करोड़ के आंकड़े को पार कर जाएंगे। भारत ने Cowin प्लेटफॉर्म का निर्माण करके पूरी दुनिया को राह दिखाई है कि इतने बड़े पैमाने पर वैक्सीनेशन किया कैसे जाता है।

देश में कुल कितने ऑक्सीजन संयंत्र 

गौरतलब हो प्रधानमंत्री कार्यालय के अनुसार अब तक, पूरे देश में कुल 1,224 PSA ऑक्सीजन संयंत्रों को पीएम केयर्स के तहत वित्त पोषित किया गया है, जिनमें से 1,100 से अधिक संयंत्रों को चालू किया गया है, जिससे प्रतिदिन 1,750 मीट्रिक टन से अधिक ऑक्सीजन का उत्पादन होता है।