September 30, 2022

अल्मोड़ा: भारतीय संस्कृति में निहित वैदिक पौधों के प्रयोग की महत्ता को लेकर आयोजित हुआ सेमिनार

 577 total views,  2 views today

सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय के वनस्पति विज्ञान विभाग  में आजादी का अमृत महोत्सव के तहत एनएसई आरबी, इंडिया के सहयोग से दो दिवसीय प्रोस्पेक्टिव्स ऑफ प्लांट बेस्ड वैदिक एंड कल्चरल प्रैक्टिस ऑफ  इंडियन हिमालयन रीजन इन ह्यूमन एंड एनवायर्नमेंटल हेल्थ  विषयक राष्ट्रीय सेमिनार का शुभारंभ हुआ।
सेमिनार के संरक्षक एवं विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो नरेन्द्रसिंह भंडारी, श्रीमती संजना भंडारी, अतिथि प्रो आर सी दुबे (विभागाध्यक्ष,वनस्पति एवं माइक्रो बायोलॉजी, गुरुकुल कांगड़ी), संकायाध्यक्ष विज्ञान प्रो जया उप्रेती,  बीज वक्ता रूप में प्रो पी सी पांडे (पूर्व अध्यक्ष, वनस्पति, कुमाऊं विश्वविद्यालय,नैनीताल),  कार्यक्रम अध्यक्ष रूप में अधिष्ठाता प्रशासन प्रो प्रवीण सिंह बिष्ट , सेमिनार के संयोजक डॉ बलवंत कुमार, सह संयोजक डॉ. धनी आर्य, प्रो.जीवन सिंह रावत (वैज्ञानिक, डीएसटी,चेयरपर्सन) ने हवन (यज्ञ) कर सेमिनार का उद्घाटन किया।
वनस्पति विज्ञान विभाग की छात्राओं ने सरस्वती वंदना, स्वागत गीत का गायन किया। उसके बाद अतिथियों को शॉल ओढ़ाकर एवं प्रतीक चिन्ह देकर सम्मानित किया।

दो दिवसीय सेमिनार की विस्तार से रूपरेखा प्रस्तुत की

सेमिनार के संयोजक डॉ. बलवंत कुमार ने दो दिवसीय सेमिनार की विस्तार से रूपरेखा प्रस्तुत की। उन्होंने कहा कि हिमालयी पर्यावरण, वैदिक  प्लांट्स, हिमालयी संस्कृति को अंतराष्ट्रीय स्तर की पहचान दिलाने आदि के लिए यह सेमिनार आयोजित हो रहा है जिसमें देशभर के ख्यातिप्राप्त विद्वान, शोधार्थी, अकादेमिक सदस्य भागीदारी कर रहे हैं। उन्होंने विभिन्न सत्रों के बारे में जानकारी दी।  बीज वक्ता रूप में प्रो पी सी पांडे (पूर्व अध्यक्ष, वनस्पति, कुमाऊं विश्वविद्यालय,नैनीताल) ने  हिमालयी क्षेत्र आयुर्वेदिक, औषधीय, हर्बल प्लांट आदि को लेकर  चर्चा की।  उन्होंने कहा कि हिमालयी क्षेत्र की वनस्पतियों पर एथनोबॉटोनिस्टों को ध्यान देने की आवश्यकता है। उन्होंने शोधकों को वनस्पतियों के बारे में अध्ययन करने हेतु निर्देशित किया।

युवा वर्ग न्यू साइंस की दिशा को तय करें

सेमिनार के संरक्षक एवं विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. नरेन्द्रसिंह भंडारी ने कहा कि  युवा वर्ग न्यू साइंस की दिशा को तय करें। युवा विज्ञानियों से हमें बहुत आशाएं हैं।  उन्होंने परंपरागत औषधियों की उपयोगिता एवं महत्व को रेखांकित करते हुए विस्तार से प्रकाश डाला। कुलपति प्रो भंडारी ने कहा कि कोविड 19 के  दौर में वैदिक पौधों की उपयोगिता और महत्ता बढ़ी है। कोबिड काल में हमने औषधीय पौधों का उपयोग कर हमने अपनी इम्युनिटी को बढ़ाया है।  वेद परंपरा पर अपनी बात रखते हुए उन्होंने कहा कि भारतीय संस्कृति में वेद परंपरा बहुत समृद्ध है। वेद और भागवत ज्ञान के भंडार हैं।  सभी कुछ प्रकृति से जुड़े हुए हैं।  हमारी संस्कृति सृजन की संस्कृति है।  उन्होंने विश्वविद्यालय के द्वारा किये जा रहे विभिन्न कार्यों से भी परिचय कराया। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय में हरेला पीठ, वेद विज्ञान, विवेकानन्द शिद्ध एवं अध्ययन केंद्र, ग्रीन ऑडिट आदि ओआर्यवरण, संस्कृति को संरक्षित करने के लिए कार्य कर रहे हैं।  कुलपति प्रो भंडारी ने वनस्पति विज्ञान विभाग के प्रयासों की सराहना की।

वेद आदि प्राचीन ग्रंथ शोध करने के लिए हैं

अतिथि प्रो. आर. सी. दुबे (विभागाध्यक्ष,वनस्पति एवं माइक्रो बायोलॉजी, गुरुकुल कांगड़ी) ने कहा कि  वेद आदि प्राचीन ग्रंथ शोध करने के लिए हैं। ध्यान,योग, मंत्रों का प्रभाव पड़ता है। हवन की महत्ता पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने कहा कि  हवन करने से हमारा पर्यावरण शुद्ध  होने के साथ आयु, नेत्र ज्योति बढ़ती है।  कई रोग हवन करने से दूर हो जाते हैं। उन्होंने चिकित्सकीय, औषधीय पौधों को संरक्षण प्रदान करने के लिए युवाओं का आह्वान किया। उन्होंने माइक्रोबियोलॉजी के संबंध में विस्तार से व्याख्यान दिया।

वनस्पति विज्ञान द्वारा एक महत्वपूर्ण विषय पर सेमिनार का आयोजन किया है

  विज्ञान संकाय की संकायाध्यक्ष प्रो. जया उप्रेती ने  सभी अतिथियों का आभार जताया। उन्होंने कहा कि वनस्पति विज्ञान द्वारा एक महत्वपूर्ण विषय पर सेमिनार का आयोजन किया है। जिसका लाभ हमारे विद्यार्थियों, शिक्षकों को अवश्य मिलेगा।
अधिष्ठाता प्रशासन प्रो प्रवीण सिंह बिष्ट  ने वनस्पति विज्ञान विभाग की सराहना करते हुए कहा कि माननीय कुलपति प्रो नरेंद्र सिंह भंडारी जी के नेतृत्व में हिमालयी संस्कृति, पर्यावरण आदि के लिए  निरंतर प्रयास किये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस हिमालयी भूमि में औषधीय पौधों, आयुर्वेदिक पौधों का प्रयोग निरन्तर होता रहा है। जिनका संरक्षण किया जाना आवश्यक है। उन्होंने वनस्पति विज्ञान विभाग की सराहना की।  इसके उपरांत  तकनीकी सत्र संचालित हुए। जिसमें मुख्य बीज वक्ता प्रो आर सी दुबे (विभागाध्यक्ष,वनस्पति एवं माइक्रो बायोलॉजी, गुरुकुल कांगड़ी) ने वैदिक मेडिशनल एंड रिमतिक प्लांट्स पर, इस सत्र के रिसोर्स पर्सन प्रो एन के दुबे (विभागाध्यक्ष, बी एच यू), ने  बायो प्रोस्पेक्शन ऑफ ट्रेडिशनली यूज्ड मेडिशनल प्लांट्स पर व्यख्यान हुए। इस सत्र की अध्यक्षता प्रो आर सी गुप्ता रहे। सत्र में डॉ विजय आर्या ने सहयोग दिया।

दूसरे तकनीकी सत्र में इस विषय पर दिया गया व्याख्यान

दूसरे तकनीकी सत्र में रिसोर्स पर्सन के रूप में प्रो. पी. सी.पांडे ने मानव और प्रकृति का संबंध एवं तत्संबंधित हमारी आशाए विषय पर एवम  रिसोर्स पर्सन डॉ आई डी भट्ट (वैज्ञानिक F, जीबी पंत कोसी) ने कंसर्वशन एंड सस्टेनेबल  यूज़ ऑफ मेडिशनल प्लांट्स फ़ॉर लीवलीहूड एनहांसमेंट इन द हिमालयन रीजन विषय पर व्याख्यान दिया। इस सत्र की अध्यक्षता  डीआरडीओ के सेवानिवृत्त वैज्ञानिक डॉ. पी.एस.नेगी ने की। इस सत्र में  डॉ. मनीष त्रिपाठी एवं डॉ. रविन्द्र कुमार ने सहयोग दिया।

ये हुए उपस्थित

तृतीय सत्र में कई शोध पत्र शोधार्थियों द्वारा पढ़े गए।  इस सत्र की अध्यक्षता प्रो. अनिल कुमार यादव (विभागाध्यक्ष, वानिकी) ने की।  सत्र में डॉ. मनमोहन कनवाल ने सहयोग दिया।
उद्घाटन सत्र में  सेमिनार से संबंधित सोविनियर एवं डॉ मंजुलता उपाध्याय द्वारा संपादित पुस्तक करेंट ट्रेंड्स ऑन एथनोबोटोनी एंड फाइटोकेमिस्ट्री ऑफ इंडिजीनस प्लांट का लोकार्पण किया गया।
सेमिनार में एडवाइजरी एवं ऑर्गनाइजिंग कमिटी के डॉ. धनी आर्या (वनस्पति विज्ञान),  प्रोफेसर जीवन सिंह रावत (वैज्ञानिक, डीएसटी), अधिष्ठाता छात्र कल्याण प्रो इला साह, अधिष्ठाता वित्त/बजट प्रो के सी जोशी, अधिष्ठाता शैक्षिक प्रो शेखर जोशी, प्रो.अनिल कुमार यादव (निदेशक,ग्रीन ऑडिट), डॉ. सुभाष चंद्र,डॉ. मनुहार आर्य,   डॉ. गजेंद्र राव (निदेशक,CcRs, रानीखेत), डॉ आदित्य मौर्य, डॉ. मंजुलता उपाध्याय, डॉ.पारुल सक्सेना, डॉ. डी. एस. धामी (रसायन विभाग), डॉ.आर.मौर्य, डॉ. के चन्द्रशेखर, डॉ. मनीष त्रिपाठी, डॉ. रविन्द्र कुमार, डॉ. ललित जोशी (विश्वविद्यालय मीडिया प्रभारी),
डॉ चंद्र सिंह चौहान, प्रमोद भट्ट,  नंदा बल्लभ सनवाल  रमेश चंद्र, पप्पू बाल्मीकि, सुनील कुमार,सतीश आदि सहित वनस्पति विज्ञान के समस्त विद्यार्थी, शोधार्थी एवं देशभर के अनुसंधाता शामिल हुए।