August 13, 2022

Health tips: थायराइड का रामबाण इलाज, इन‌ घरेलू उपायों से मिलेगी मदद, जानें

 4,487 total views,  2 views today

आज हम स्वास्थ्य से संबंधित फायदों के बारे में आपको बताएंगे। आयुर्वेद में थायरॉइड से सम्बन्धित रोग को अवटु ग्रंथि विकार कहा गया हैं। यह अनुचित आहार-विहार एवं तनाव पूर्ण जीवन जीने की वजह से होता है। इसमें वात, पित्त व कफ का असंतुलन और मुख्य रूप से वात एवं कफ विकार के कारण होता है।

💊ये बीमारी दो तरह की होती है। हाइपरथायरायडिज्म और हाइपोथायरायडिज्म। एक में शरीर में सूजन आती है तो दूसरे में शरीर पतला होता जाता है। लेकिन अब घबराने की जरूरत नहीं है क्योंकि अपनी आदतों में सुधार के साथ ही कुछ घरेलु नुस्खा अपनाने से इस बीमारी से छुटकारा मिल सकता है। तो आइए जानते हैं थायरॉइड के लक्षण और घरेलु नुस्खा क्या है-

📡थायराइड दरअसल एक एंडोक्राइन ग्लैंड है जो बटरफ्लाई आकार का होता है और ये गले में स्थित है। इसमें से थायराइड हार्मोन निकलता है जो शरीर में मेटाबॉलिज्म को संतुलित करता है। थायराइड ग्लैंड शरीर से आयोडीन की मदद से हार्मोन बनाता है।

⚒️⚒️थायराइड को दूर करने के घरेलू उपाय-

📌साबुत धनिये का उपयोग-

एक गिलास पानी में 2 चम्मच साबुत धनिये को रात के समय में भिगोकर रख दें तथा सुबह के समय में इसे मसलकर उबाल लें। फिर जब पानी चौथाई भाग रह जाये तो खाली पेट इसे पी लें तथा गर्म पानी में नमक डालकर गरारे करें। यह उपचार लगातार करने से थायरायड की समस्या से छुटकारा मिल सकता है।

📌दही और दूध का सेवन-

जिन व्यक्तियों को थायराइड की समस्या होती है उन्हें दही और दूध का सेवन अधिक से अधिक करना चाहिए। दूध और दही में मौजूद कैल्शियम, मिनरल्स और विटामिन्स थायराइड से ग्रसित रोगियों को स्वस्थ बनाने में मदद करता है।

📌मुलेठी का सेवन-

जिन व्यक्तियों को थायराइड की समस्या होती है उन्हें बहुत जल्दी थकान लगने लगती है और वे जल्दी ही थक जाते हैं। एैसे में मुलेठी का सेवन करना बेहद फायदेमंद होता है। मुलेठी में मौजूद तत्व थायराइड ग्रंथी को संतुलित बनाते हैं और थकान को उर्जा में बदल देते हैं और थायराइड की समस्या से निजात मिलती है।

📌फलों और सब्जियों का सेवन-

थायराइड के रोगियों को फलों और सब्जियों का इस्तेमाल अधिक करना चाहिए. फल और सब्जियों में एंटीआक्सिडेंटस होता है। जो थायराइड को कभी बढ़ने नहीं देता है। सब्जियों में टमाटर, हरि मिर्च आदि का सेवन करें. इससे थायराइड की समस्या से छुटकारा मिलता है।

📌फलों का रस-

थायराईड रोगों का उपचार करने के लिए रोगी व्यक्ति को कुछ दिनों तक फलों का रस (नारियल पानी, पत्तागोभी, अनानास, संतरा, सेब, गाजर, चकुन्दर, तथा अंगूर का रस) पीना चाहिए, इससे थायराईड की समस्या को दूर करने में मदद मिलती है।

📌अदरक-

थायराइड की समस्या से छुटकारा पाने के लिए अदरक का सेवन करना लाभदायक होता है। अदकर में पोटेशियम और मैग्नीशियम की मात्रा अच्छी होती है।‌ इसके अलावा एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण भी अदरक में होता है, जिससे थायराइड को रोकने में मदद मिलती है।

📌हरा धनिया-

अगर आपको थायराइड में जल्दी आराम चाहिए, तो आप सुबह खाली पेट हरा धनिया को पीसकर इसके रस को गुनगुने पानी में घोलकर पीएं। धनिया का सेवन थायराइड रोगियों के लिए ठीक रहता है।

📌हल्दी-

थायराइड ग्रंथि को स्वस्थ रखने के लिए हल्दी बहुत फायदेमंद साबित होती है। हल्दी में एंटी ऑक्सीडेंट्स और एंटी-इंफ्लेमेटरी जैसे गुण होते हैं, जो थायराइड का घरेलू इलाज करने में बहुत बदद करते हैं। थायराइड की परेशानी में आपको चाहिए कि आप रोज एक चम्मच हल्दी को एक गिलास दूध में डालकर सेवन करें।

📌तुलसी-

कई प्रकार की स्वास्थ्य समस्याओं के लिए तुलसी का उपयोग किया जाता है। तुलसी में बहुत से ऐसे औषधिए गुण होते हैं, जिनकी मदद से Thyroid Ka Ilaj करने में बहुत मदद मिलती है।