August 15, 2022

13 जून: महान योद्धा महाराणा प्रताप की आज है 481वीं जयंती, जाने इनका इतिहास

 2,154 total views,  2 views today

आज पूरे देश में राजा महाराणा प्रताप की जयंती मनाई जाती है। हिंदू कैलेंडर ज्येष्ठ के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को योद्धा राजा महाराणा प्रताप की जयंती मनाई जाती है। इसलिए इस बार 13 जून को मनाया जा रहा है।  भारत के महान योद्धा महाराणा प्रताप की जयंती पर जानें उनके बारे में।

मेवाड़ के राजा महाराणा प्रताप की आज 481वीं जयंती-

आज देशभर में राजस्थान के महान राजपूत योद्धा और मेवाड़ के राजा महाराणा प्रताप की 481वीं जयंती मनाई जा रही है। दरअसल, हिंदू पंचांग के अनुसार, महाराणा प्रताप का जन्म ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को हुआ था और यह तिथि आज है, इसलिए आज उनका जन्मोत्सव मनाया जा रहा है। राजस्थान और हिमांचल प्रदेश सहित कई राज्य महाराणा प्रताप जयंती पूरे जोश में मनाते हैं और इस दिन को सार्वजनिक अवकाश भी घोषित करते हैं।

अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार, महाराणा प्रताप का जन्म 9 मई 1540 को हुआ था-

अग्रेंजी कैलेंडर के अनुसार महाराण प्रताप का जन्म 9 मई, 1540 में हुआ था। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार, महाराणा प्रताप का जन्म 9 मई 1540 को मेवाड़ के कुंभलगढ़ में हुआ था।

जाने महाराणा प्रताप सिंह का इतिहास-

माता-पिता महाराणा उदय सिंह द्वितीय और रानी जीवन कंवा के घर जन्मे, महाराणा प्रताप ने मुगल सम्राट अकबर को 1577, 1578 और 1579 में अपनी संपत्ति पर आक्रमण करने से तीन बार हराया। वो सिसोदिया राजपूत कबीले के थे और अकबर से लड़ने के लिए क्षत्रिय के सख्त नियमों का पालन करते थे। महाराणा प्रताप महान राजा थे जिन्होंने मुगलों के खिलाफ स्वतंत्रता के पहले युद्धों में से एक की शुरुआत की थी। 1597 में उनकी मृत्यु के बाद, महाराणा प्रताप के बाद उनके बड़े बेटे अमर सिंह प्रथम बने। तब से, महाराणा प्रताप का जन्मदिन हर साल उदयपुर में पर्ल हिल स्थित महाराणा प्रताप स्मारक में हवन और पूजा के साथ मनाया जाता है।

महाराणा प्रताप जयंती का विशेष है महत्व-

महाराणा प्रताप जयंती वीरता, स्वतंत्रता की भावना, गर्व और वीरता के प्रतीक के रूप में मेवाड़ राजा द्वारा अपने जीवन में सभी बाधाओं के खिलाफ प्रदर्शित की गई है। महाराणा प्रताप ने अपने लोगों और उनके गौरव के लिए मुगल साम्राज्य के खिलाफ लड़ाई लड़ी। आक्रमणकारियों के खिलाफ अपने राज्य की रक्षा करते हुए, 56 वर्ष की आयु में 29 जनवरी, 1597 को घटना के दौरान हुई कई चोटों के कारण उनकी मृत्यु हो गई। महाराणा प्रताप का जीवन कई लोगों के लिए प्रेरणा का काम करता है और इसलिए उनके जन्मदिन को महान शासक को श्रद्धांजलि देने के लिए महाराणा प्रताप जयंती के रूप में मनाया जाता है। महाराणा प्रताप के बारे में पूरी जानकारी तो नहीं लेकिन उनके बारे में आज हर व्यक्ति जानता है। उनकी गौरव गाथा इतनी लंबी है कि उसे शब्दों में बयां करना ही मुश्किल है। वो परम प्रतापी राजा थे जिन्होंने मुगलों से एक बेहतरीन लड़ाई लड़ी। उनकी कहानियां आज जन-जन में प्रचलित हैं। इसी के चलते आज भी लोग उन्हें याद करते हैं।