February 7, 2023

Khabribox

Aawaj Aap Ki

स्वाति तिवारी द्वारा रचित कुमाऊंनी कविता, हमर मातृभाषा कुमाऊंनी, बुलाण में किले शरमौनी

 4,789 total views,  2 views today

हमर मातृभाषा कुमाऊंनी
बुलाण में किले शरमौनी
तुमले बुला, हमूल बुलै
साथ मिलबेर फ़सक लंगू।

गीत गा , नाच कर
पहाड़क संगीत मा
मौज कर।

पहाड़ी बुला,
पहाड़क साहित्य पढ़
पहाड़ी कहावत लै क।

पहाड़ मौसम जसी
पहाड़ी भाषा लै कूल छ
जो पहाड़ी इके न बुला सकणी
वी मैस अंग्रेजी क फूल छ।