October 19, 2021

केंद्र ने कहा हिन्दू, बौद्ध और सिख धर्म के अनुसूचित जाति से अन्य धर्म में परिवर्तन होने पर नहीं मिलेंगे केन्द्रीय प्रायोजित योजनाओं के जातिगत लाभ

 3,604 total views,  2 views today

संसद में मंगलवार को केंद्र ने बताया कि कोई भी वह व्यक्ति जो हिंदू, सिख या बौद्ध धर्म से अलग धर्म को मानता है, उसे अनुसूचित जाति का सदस्य नहीं माना जाएगा। अनुसूचित जाति के कल्याण और विकास के लिए केंद्र प्रायोजित लाभ योजनाओं
के लाभों को अनुसूचित जाति से धर्मांतरित ईसाइयों या अन्य धर्म के व्यक्तियों को नहीं दिया जाएगा ।

क्या होती हैं केन्द्रीय प्रायोजित योजनाएं

केंद्र प्रायोजित  योजना वह हैं,  जिनमें योजनाओं के कार्यान्वयन के लिए वित्त की व्यवस्था केंद्र तथा राज्य सरकार द्वारा मिलकर की जाती है। इस प्रकार की योजनाओं को एक ऐसे माध्यम के रूप में देखा जाता है, जिसमें केंद्र सरकार राज्यों को योजनाओं के कार्यान्वयन में वित्तीय सहायता प्रदान करती है।

सीएसएस के तहत आने वाली  प्रायोजित योजनाएं

प्रायोजित योजनाओं के तहत आने वाली कुछ प्रमुख योजनाओं में मनरेगा, हरित क्रांति, प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना, स्वच्छ भारत मिशन और राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन आदि सम्मिलित है ।